Online Copyright Registration in India

Protect your creative work
Books, Songs, film, websites, Software, painting, fashion Design etc
Call now: 09891244487

Ask Our legal Experts, on issues related to Divorce

File Mutual Consent divorce right away

Call at ph no: 9650499965
Search On:Laws in IndiaLawyers Search

To Appeal before CIC - Central Information Commission
For Filing and Hearing contact: Choudhury's law Office
Ph no: 9873628941

Author Topic: Dahej aur maar peet wa jalaa kar maarne ka jhoota aarop  (Read 986 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Offline Ghulam Haider

  • Newlaw
  • *
  • Posts: 2
  • Karma: +0/-0
  • Welcome to legal Service India - law forum for free legal Information
    • View Profile
Dahej aur maar peet wa jalaa kar maarne ka jhoota aarop
« on: August 05, 2014, 07:12:44 PM »
मेरी शादी को पॉच साल से अधिक समय हो चुका है। पत्नि पक्ष से कई बार दहेज प्रथा व  मार-पीट का आरोप लगाने की धमकी मिली एक बार पत्नि ने थाने मे अर्ज़ी भी दी थी, इस बार DIG को पत्र लिखा। पुलिस ने हमारे घर सूचना दी और इस मामले की छान-बीन की तो उन्हे मौहल्ले के कुछ लोगो ने यह बताया कि लड़की वाले लड़के का मकान कब्जाना चाहते है। जब सिपाहियो ने लड़की के भाई से कहा कि तुम्हारा केस झूठा है और किसी ने तुम्हारे पक्ष मे गवाही नही दी है, हम DIG को सूचित कर देगे कि यह केस सत्य नही है। इस पर मेरी पत्नि ने थानाध्यक्ष को यह लिखा कि- (मेरी सास से कछ कहा-सुनी हो गयी थी, ग़ुस्से मे आकर मैने दहेज मागने व मार-पीट ......आदि केस लगाये थे। मेरे पति तीन महीने मे विदेश से आ जायेगे तो फैसला हो जायेगा)
मैने शादी से पहले मकान वही खरीदा था जहां बाद मे मेरी शादी हुई। शादी के समय भी हमारी कोई माग नही थी और बाद मे भी कोई माग हमने नही की, जब्कि शादी के समय ही लड़की वालो ने मेरे मकान का तिहाई हिस्सा लड़की के नाम निकाह नामे पर लिखवा लिया था और तभी से वह मेरा मकान कब्जाना चाहते है, मेरी बहिन से अपने भाई की शादी न होने के कारण भी मेरी पत्नि ने पूरे परिवार का जीवन तबाह कर रखा है. मेरी शादी के बाद से अब तक किसी भाई-बहिन की शादी मेरी पत्नि के कारण नही हो सकी है और जो पढ़ रहे थे उन की पढाई भी छूट गई। उस ने मेरे पास विदेश आने को भी मना कर दिया है, वह और उस के परिवार वाले यह चाहते है कि परेशान हो कर लड़का खुद तलाक दे जिसका वह खूब लाभ उठा सकें।
पिता का शादी से कई साल पहले कैंसर से पीड़ित होने के कारण देहान्त हो गया था और मै ही घर मे सब से बड़ा हूँ।
 मै आप से यह जानना चाहता हूँ कि ऐसे झूठे और क़ानून का गलत उपयोग करने वाले लोगो से अपने बचाव कैसे करूँ और दोषियो को किस तरह सजा मिले।
   सलाह के लिये धन्यवाद
« Last Edit: August 05, 2014, 07:14:37 PM by Ghulam Haider »

Offline advlaxmanadvani

  • Professional legal Expert
  • ***
  • Posts: 75
  • Karma: +3/-5
  • Advocate laxman Advani from Ahmedabad
    • View Profile
Re: Dahej aur maar peet wa jalaa kar maarne ka jhoota aarop
« Reply #1 on: August 06, 2014, 03:06:49 AM »
Can you kindly write in English can't read Hindi and please write short
Advocate laxman Advani
 Ahmedabad legal Practitioner

Offline Ghulam Haider

  • Newlaw
  • *
  • Posts: 2
  • Karma: +0/-0
  • Welcome to legal Service India - law forum for free legal Information
    • View Profile
Re: Dahej aur maar peet wa jalaa kar maarne ka jhoota aarop
« Reply #2 on: August 06, 2014, 08:50:39 AM »
Can you kindly write in English can't read Hindi and please write short
I can write it in english script. But if you want tanslation  in english, i have to find someone because my english is very poor.
Thak u sir for your attention

 

File a Consumer Complaint
Property verification
Call: 9873628941
 

Lawyers in India - Listed city wise Mumbai
Bangalore
Pune
Pondicherry
Jaipur
lawyers in London
lawyers in Birmingham
Chennai
Allahabad
Ahmedabad
Jodhpur
Indore
lawyers in Toronto
lawyers in Sydney

Cochin
Lucknow
Ranchi
Thane
Janjgir
lawyers in Milan
Johannesburg

Delhi - New Delhi
Chandigarh
Surat
Nashik
lawyers in New York
los Angeles
Kolkata
Hyderabad
Rajkot
Nagpur
lawyers in Dhaka
lawyers in Dubai

Copyright Registration

Ph no: 9891244487

For Mutual consent Divorce in Delhi - Ph no: 9650499965

Home | Bare Acts | Law Forms | Supreme Court Judgments | Legal Advice | Lawyers | Submit article | Sitemap | Contact Us

legal Service India.com is Copyrighted under the Registrar of Copyright Act ( Govt of India) 2000-2016
Get Free legal Advice here from top notch lawyers in India